Chhodo Kal Ki Baatein by Prem Dhawan

Wish you all a very Happy Independence Day!! Here’s my favorite patriotic song, have translated it to English today  😊

Chhodo Kal Ki Baatein by Prem Dhawan/Translated to English by Aparna Rao

Let’s leave the past behind
yesterday is an old story
We’ll work together
and craft a new narrative
Create a new history
We’re Indians, We’re Indians

We’ve broken old bondages
why deliberate on them?
Man has set foot on the moon
and we’re entering a new world
we’re youthful again
full of new emotions, fresh hopes
We’re Indians, We’re Indians

We’ve to erect many a Tajmahal
we’ve to sculpt many Ajantas
so many oceans to cross
so many hurdles to overcome
we’re youthful again
full of new emotions, fresh hopes
We’re Indians, We’re Indians

Let’s make hard work our mission
and craft our own destiny
let’s make this holy land
an India more beautiful than dreams
we’re youthful again
full of new emotions, fresh hopes
We’re Indians, We’re Indians

We paid the price of freedom with our lives
so many were martyred
and we’re now free
we need to look out for every enemy
we’re youthful again
full of new emotions, fresh hopes
We’re Indians, We’re Indians

Look up and aim at the stars
our land has many hidden treasures
Ganga is golden and Yamuna is silvery
and we can reap harvests on stones
we’re youthful again
full of new emotions, fresh hopes
We’re Indians, We’re Indians


 

छोड़ो कल की बातें – Chhodo Kal Ki Baatein

Movie/Album: हम हिन्दुस्तानी (1960)
Music By: उषा खन्ना
Lyrics By: प्रेम धवन
Performed By: मुकेश

छोड़ो कल की बातें, कल की बात पुरानी
नए दौर में लिखेंगे, मिल कर नई कहानी
हम हिन्दुस्तानी, हम हिन्दुस्तानी

आज पुरानी ज़ंजीरों को तोड़ चुके हैं
क्या देखें उस मंज़िल को जो छोड़ चुके हैं
चांद के दर पर जा पहुंचा है आज ज़माना
नए जगत से हम भी नाता जोड़ चुके हैं
नया खून है नई उमंगें, अब है नई जवानी
हम हिन्दुस्तानी…

हमको कितने ताजमहल हैं और बनाने
कितने हैं अजंता हम को और सजाने
अभी पलटना है रुख कितने दरियाओं का
कितने पवर्त राहों से हैं आज हटाने
नया खून है…

आओ मेहनत को अपना ईमान बनाएं
अपने हाथों से अपना भगवान बनाएं
राम की इस धरती को गौतम की भूमि को
सपनों से भी प्यारा हिंदुस्तान बनाएं
नया खून है…

दाग गुलामी का धोया है जान लुटा के
दीप जलाए हैं ये कितने दीप बुझा के
ली है आज़ादी तो फिर इस आज़ादी को
रखना होगा हर दुश्मन से आज बचा के
नया खून है…

हर ज़र्रा है मोती आँख उठाकर देखो
मिट्टी में सोना है हाथ बढ़ाकर देखो
सोने की ये गंगा है चांदी की जमुना
चाहो तो पत्थर पे धान उगाकर देखो
नया खून है…

Leave a Reply

%d bloggers like this: